Select Language : मराठी  , English , ಕನ್ನಡ  
Advanced Search


Subscribe To Newsletter

Enter your email address:


Delivered by FeedBurner
Kindly note verification mail goes to SPAM, so please check your SPAM folder




बालकों, दूरचित्रवाणी (टीवी) देखनेके दुष्परिणाम समझो !

मूल्यांकन : Average Rating : 6.50 From 4 Voter(s) | पढ़ा गया : 1616
By Bal Sanskar

दूरचित्रवाणी (टीवी) देखनेके दुष्परिणाम

         बहुत निकटसे व बहुत देरतक दूरचित्रवाणीके कार्यक्रम देखनेपर आंखोंपर प्रभाव पडता है व सिरमें वेदना होने लगती है । दूरचित्रवाणीके कार्यक्रम देखनेमें मग्न रहेंगे, तो विद्याभ्यास, साधना व अन्य सामाजिक कार्योंके लिए उपयोगी समय व्यर्थ जाता है । दूरचित्रवाणीपर सिनेमा तथा अन्य कार्यक्रमोंमें दिखाई जानेवाली मारपीट, हत्या, चोरी, सिगरेट-मद्यके व्यसन, गालियां देना इत्यादि दृश्य देखकर वैसी कृति करनेकी प्रवृत्ति निर्माण होती है । ऐसे कार्यक्रमोंसे हमारी वृत्ति भी राजसिक-तामसिक बनने लगती है, उदा. हमारा स्वभाव चिडचिडा बनता है, मनकी एकाग्रता कम होती है ।


बच्चों, पाश्चात्य नहीं; अपितु भारतीय संस्कृतिनुसार आचरण करो !

         पाश्चात्य सभ्यता (मैनर्स) सिखाती है कि, थालीमें अन्न शेष रखें; अपितु भारतीय सभ्यता सिखाती है, ‘अन्नको भगवानका प्रसाद मानकर उसे थालीमें शेष न रखें, उसे पूर्णत: ग्रहण करें’ ।






प्रतिक्रिया

प्रतिक्रियाएं व्यक्त करें हिंदीमें टंकण करें (Press Ctrl+g to toggle between English and हिंदी)
* नाम


* आपका इ-मेल पता (Email Address)


* शहर



*Image Validation (?)


*प्रतिक्रिया





लेख के प्रति मूल्यांकन दीजिये :

1

2

3

4

5

6

7

8

9

10
न्यून अधिक
Itihas
Vadhdivas
Participate








Android app on Google Play
    Bal Sanskar
© 2014, Balsanskar.com, All Rights Reserved
Terms of use l Privacy policy l Spiritual Terminology