Select Language : मराठी  , English , ಕನ್ನಡ  
Advanced Search


Subscribe To Newsletter

Enter your email address:


Delivered by FeedBurner
Kindly note verification mail goes to SPAM, so please check your SPAM folder




बच्चो, देवालय और तीर्थक्षेत्रोंकी पवित्रता बनाए रखें !

मूल्यांकन : Average Rating : 6.09 From 11 Voter(s) | पढ़ा गया : 4714
By Bal Sanskar

         बच्चो, देवालय तथा तीर्थक्षेत्रोंमें जानेपर अपने अयोग्य वर्तनसे वहांकी पवित्रता नष्ट न हो, इसका ध्यान रहे । हमारे द्वारा पवित्रता नष्ट हुई, तो हमें पाप लगेगा और यदि हमने पवित्रता बनाई रखी, तो हमें देवताके आशीर्वाद प्राप्त होंगे ।

इसलिए यह करें -

१.  देवालयमें ऊंचे स्वरमें बोलना, खेलना, ‘मोबाईल’पर बोलना आदि  कृत्य न करें !

२.  दर्शनके लिए प्रतीक्षा करते समय मन-ही-मन देवताका नामजप अथवा देवतासे प्रार्थना करें !

३.  देवालयके प्रांगणमें जूते-चप्पल पहनकर न घूमें । उस स्थानको मेलेका स्वरूप न दें !

४. प्रसादकी थैली, केलेके छिलके, नारियलकी भूसी आदि देवालयके प्रांगणमें न फेंके  तथा प्रांगणमें जहां कूडा-कचरा दिखाई दे, वहां स्वच्छता करें !






प्रतिक्रिया

प्रदीप कुमार दास
December 27, 2013, 11:44 am

भारतीयता की द्रिष्टी मे यह बहुत लाभकारी है |
प्रतिक्रियाएं व्यक्त करें हिंदीमें टंकण करें (Press Ctrl+g to toggle between English and हिंदी)
* नाम


* आपका इ-मेल पता (Email Address)


* शहर



*Image Validation (?)


*प्रतिक्रिया





लेख के प्रति मूल्यांकन दीजिये :

1

2

3

4

5

6

7

8

9

10
न्यून अधिक
Itihas
Vadhdivas
Participate








Android app on Google Play
    Bal Sanskar
© 2014, Balsanskar.com, All Rights Reserved
Terms of use l Privacy policy l Spiritual Terminology